चर्म रोग होम्योपैथिक इलाज jalan/daad khaj khujli ki homeopathic dawa in Hindi

चर्म रोग होम्योपैथिक इलाज jalan/daad khaj khujli ki homeopathic dawa in Hindi

0
236

दाद, खाज, खुजली की होम्योपैथिक दवा

नमस्कार दोस्तों ! आज के दौर में दाद, खाज और खुजली जैसे रोगों का प्रभाब बहुत ज्यादा बढ़ गया है। आज लगभग 80% लोग इन त्वचा रोगों से पीड़ित हैं। आखिर ये रोग क्यों होते है? यह सवाल आपके मन में जरूर आया होगा। तो आइए जानते हैं इनके कारण के बारे में।

ख़ासकर ये रोग हमारे रहन-सहन और खान-पान के ऊपर निर्भर करते है। अब आप सोच रहे होंगे कि इन रोगों का इससे क्या मतलब है, मतलब है … जब हम इस फैशन के दौर में जींस जैसे मोटे और टाइट कपड़े पहनते हैं, तो हम उन्हें लंबे समय तक पहने रहते जिससे हवा इनके अन्दर नहीं जा पाती है और दाद, खाज, खुजली जैसी समस्या उत्पन्न हो जाती है।

वहीं दूसरी ओर हमें खान-पान का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए। खाने में ज्यादा तेल और तली हुई चीजें नहीं खानी चाहिए क्योंकि ज्यादा तली हुई चीजें खाने से पेट खराब हो जाता है जिससे त्वचा पर दाने, दाद और खुजली जैसी समस्याएं होने लगतीं है। हमें ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए क्योंकि ज्यादा पानी पीने से खून साफ ​​होता है। दिन में कम से कम 2 से 3 लीटर पानी जरूर पीना चाहिए|

दाद को जड़ से खत्म करने की दवा होम्योपैथिक

1. Sulpher 200 :- त्वचा में जलन, खुजली, पानी निकलना, बदबू आना, रात में खुजली अधिक होना, त्वचा पर पपड़ी सी जमना, त्वचा पर थोड़ी सी चोट लगने पर पक जाना, त्वचा को धोने और खुजलाने पर अधिक खुजली होना। नाखूनों की त्वचा में जलन, किसी भी दवा को लेने के बाद त्वचा पर दाने निकल आना, गर्मी में तेज खुजली होना आदि रोगों में यह औषधि बहुत लाभकारी होती है।

2. Petrolium 200 :- त्वचा पर दानों का कम दिखाई देना पर खुजली ज्यादा होना, बहुत ज्यादा खुजली होना, त्वचा खुरदरी और फटी हुई लगना, हाँथ पर फुंसियाँ होना, त्वचा पर मोटी हरी रंग की पपड़ियां होना तथा इसमें जलन होना और खुजली होना, त्वचा लाल फटी हुई लगना, त्वचा पर दरार युक्त घाव होना आदि रोगों में यह औषधि अच्छा लाभ पहुँचाती है।

3. Antimonium Crudum 200 :- त्वचा पर दाने निकलना, त्वचा की चमड़ी मोटी हो जाना, त्वचा काली सी दिखना, शरीर के त्वचा पर छोटी-छोटी फुंसियाँ निकलना, फुंसियों में दूषित तरल पदार्थ भरा हो। त्वचा के कई भागों में मोटी-मोटी, सख्त, शहद के रंग जैसी पपड़ियां जम गई हो तो इन लक्षणों में यह दवा अच्छा काम करती है।

4. Arsenic Album 200 :- त्वचा बहुत ज्यादा रुखी हो, खुश्क हो, खुजलाने पर चमड़ी भूसी की तरह निकले। रोगी के शरीर के कई अंगों में खुजली, जलन, सूजन, छोटे-छोटे दाने, खुश्क, खुरदरे, पपड़ीदार दाने, ठण्ड और खुरचने से अधिक परेशानी होने के कारण घाव होना,जिनसे बदबूदार स्राव होता रहता है। शरीर में बर्फ जैसा दर्द महसूस होता है आदि लक्षणो में आर्सेनिक एल्बम औषधि लाभ पहुँचाती है।

Note :- दवा डॉक्टर के परामशानुसार लें और लक्षणों के आधार पर ही लें। धन्यवाद…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here